Follow this blog

Tuesday, October 4, 2011

देख

क्यों बेसब्री से बैठ सूरज का इंतज़ार करता,
ढंग से देख,
इस अँधेरी रात में भी,
कमी नहीं प्रकाश की...