Follow this blog

Friday, December 23, 2011

वो जुगनू


“न होती उलझनें, तो न मिलते हमें सच के और पहलू,

न होती अंधेरी रात, तो न दिखते हमें वो टिमटिमाते जुगनू।“