खुशियाँ

उँगलियों के बीच छिपी थी खुशियाँ,
बंद मुट्ठी से कभी बाहर न आ सकीं।
बस ज़रूरत थी तो उन खुले हथेलियों की ...

Comments

Popular posts from this blog

'Busy'?

Think...

A fiction