Follow this blog

Wednesday, October 19, 2011

खुशियाँ

उँगलियों के बीच छिपी थी खुशियाँ,
बंद मुट्ठी से कभी बाहर न आ सकीं।
बस ज़रूरत थी तो उन खुले हथेलियों की ...